Header Ads

what are the features of demonetisation | नोटबंदी की विशेषताएं क्या हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच सौ और एक हजार रुपये के नोट बंद करने की घोषणा करते हुए उसके दो कारण बताए थे। 
एक: विमुद्रीकरण या नोटबंदी करने से कालेधन की समस्या से निपटने में मदद मिलेगी। 
दूसरा: विमुद्रीकरण या नोटबंदी करने से आतंकवादियों द्वारा प्रसारित किए गए जा रहे नकली नोटों की समस्या हल हो जाएगी। 

भारत में नोटबंदी/ विमुद्रीकरण / demonetisation की तारीख

विमुद्रीकरण जिसे भारत में बोलचाल की भाषा में नोटबंदी कहा गया। 08 नवम्बर 2016 की रात 08 बजे घोषित किया गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल टीवी पर आकर अचानक देश के नाम संदेश दिया और रात 12 बजे से नोटबंदी प्रभावी हो गई।

क्या होता है विमुद्रीकरण, भारत में पहली बार​ विमुद्रीकरण कब हुआ था

विमुद्रीकरण एक आर्थिक गतिविधि है जिसके अंतर्गत सरकार पुरानी मुद्रा को समाप्त कर देती है और नई मुद्रा को चालू करती है। जब काला धन बढ़ जाता है और अर्थव्यवस्था के लिए खतरा बन जाता है तो इसे दूर करने के लिए इस विधि का प्रयोग किया जाता है। जिनके पास काला धन होता है, वे उसके बदले में नई मुद्रा लेने का साहस नहीं जुटा पाते हैं और काला धन स्वयं ही नष्ट हो जाता है। इसका प्रयोग 08 नवम्बर 2016 को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किया गया है। इस दिन से पुराने 500 और 1000 रुपए की मुद्रा बंद कर दिए और नए मुद्रा लाए।भारत के चौथ्‍ो प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के द्वारा सन 1978 में सर्वप्रथम मुद्रा का विमुद्रीकरण किया गया जिसमे 1000 और 5000 के नोट हमेशा के लिए बंद कर दिए थे। 

No comments

Powered by Blogger.